डिंडौरी| उपयंत्री को पता नहीं और ठेकदार ने मनमर्जी से बना दी लाखों रूपये की गुणवत्ता हीन सीसी सड़क, बनते ही होने लगी जर्जर….

डिंडौरी| उपयंत्री को पता नहीं और ठेकदार ने मनमर्जी से बना दी लाखों रूपये की गुणवत्ता हीन सीसी सड़क, बनते ही होने लगी जर्जर….

— सरपंच,सचिव,रोजगार सहायक और उपयंत्री की मिलीभगत से ठेकेदार पर मापदण्ड को दरकिनार कर सीसी सड़क का निर्माण कराने का ग्रामीणों ने लगाए आरोप…

— जनपद पंचायत डिंडौरी अंतर्गत ग्राम पंचायत पड़रिया कला का मामला….

डिंडौरी(रामसहाय मर्दन)| जनपद पंचायत डिंडौरी अंतर्गत ग्राम पंचायत पड़रिया कला में नवनिर्मित सीसी सड़क निर्माण कार्य लाखों रुपए की लागत से किया गया। जहां सीसी सड़क में जिम्मेदारों के द्वारा गड़बड़ी कर भारी भृष्टाचार करने का मामला सामने आया है। दरअसल ग्राम पंचायत पड़रिया कला के बैगान टोला में लाखो रू की लागत से सीसी सड़क निर्माण कराया गया है। यह सड़क बैगान टोला में प्राथमिक शाला से कूप सिंह के घर तक निर्माण कराया गया है लेकिन सीसी सड़क निर्माण होते ही जर्जर होने लगी है।

ग्रामीणों ने बताया कि उक्त सीसी सड़क को सरपंच,सचिव और रोजगार सहायक के द्वारा अपने चहेते ठेकेदार के माध्यम से कराया गया है,जिसके चलते ठेकेदार ने मापदंडो को दरकिनार करते हुए स्वयं को आर्थिक लाभ पहुॅचाने के फिराक में घटिया सामग्री से मनमर्जी पूर्वक निर्माण किया गया है जिसकी वजह से बनते ही लाखों रुपए सीसी सड़क उखड़ने लगी और जर्जर हो गई है।

ग्रामीणों ने बताया कि सीसी सड़क निर्माण में मनरेगा के तहत उनके के द्वारा मजदूरी कार्य किया गया है जिसकी 15 से 20 दिनों का मजदूरी भुगतान भी नहीं दिया गया है। ग्रामीणों ने आरोप लगाए हैं कि सचिव और रोजगार सहायक के मिलीभगत से सीसी सड़क का मजदूरी भूगतान के नाम पर मनरेगा के अन्य योजना जैसे कंटूर ट्रेंच का निर्माण कार्य कराए बिना सीसी सड़क के नाम से मजदूरों को भुगतान किया है और सीसी सड़क में की गई मजदूरी कार्य का भुगतान नहीं दिया जा रहा है।

―उपयंत्री के बिना जानकारी के ठेकेदार ने कैसे करा दी लाखों रुपए की सीसी सड़क का निर्माण…..?

बता दें कि लाखों की लागत से सीसी सड़क का निर्माण ठेकेदार के द्वारा उपयंत्री के बिना जानकारी के करा दिया गया है यह हम नहीं स्वंय उपयंत्री कमलेश धूमकेती कह रहे हैं। दरअसल जब सीसी सड़क की जर्जर स्थिति की जानकारी लेने के लिए उपयंत्री कमलेश धूमकेती से बात की गई तो उन्होंने बताया कि जो ग्राम पड़रिया कला में सीसी सड़क का निर्माण किया गया है उनकी जानकारी उन्हें नहीं है उनकी बिना जानकारी के सरपंच, सचिव और रोजगार सहायक के द्वारा ठेकेदार के माध्यम से निर्माण कार्य कराया गया है। अब सवाल यह है? कि की लाखों की लागत से निर्मित सीसी सड़क जो मापदंडों और उपयंत्री की निगरानी में होनी थी ठेकेदार ने बिना इंजीनियर के सीसी सड़क निर्माण कार्य कैसे करा दिया गया। क्या मनमानी पूर्वक गुणवत्ताहीन निर्माण कराने का ठेका ठेकेदारों को मिल गया है? क्या जिम्मेदारों को मुझे पता नहीं कह कर अपनी जिम्मेदारी से बचना उचित है? मुद्दे की बात यह है कि क्या शासन की लाखों रुपए का इसी तरह बंटाधार होता रहेगा या फिर सीसी सड़क निर्माण कार्य में लापरवाही बरतने वाले सरपंच, सचिव, रोजगार सहायक, ठेकेदार और उपयंत्री के ऊपर कोई कार्रवाई की जाएगी या फिर ब भ्रष्टाचारियों को ऊपर बैठे जिम्मेदार अधिकारियों के द्वारा अभय दान दिया जाएगा।

◆ कहना है:―

सीसी सड़क निर्माण कार्य रुका हुआ था जिसे ठेकेदार के द्वारा बिना मेरे जानकारी के मनमर्जी पूर्वक निर्माण कराया गया है, मैं संबंध में जनपद सीईओ को आवेदन लिखकर अवगत कराता हूं।

उपयंत्री कमलेश धूमकेती, जनपद पंचायत डिंडौरी।

कहना है:—
सीसी सड़क निर्माण की जानकारी आप के माध्यम से मिली है, संबंधित विभाग से बात करता हूं।

 सीईओ जनपद पंचायत डिंडौरी, निखिलेश कटारे

 

editor

Related Articles