डिंडौरी| ग्राम पंचायत अतरिया सचिव, केशू सिंह राजपूत पर फर्जी अंकसूची से सचिव पद प्राप्त करने के ग्रामीणों ने लगाए आरोप…

डिंडौरी| ग्राम पंचायत अतरिया सचिव, केशू सिंह राजपूत पर फर्जी अंकसूची से सचिव पद प्राप्त करने के ग्रामीणों ने लगाए आरोप…

— ग्रामीणों ने कलेक्टर से शिकायत कर जांच करवाने की मांग…

— जनपद पंचायत समनापुर अंतर्गत ग्राम पंचायत अतरिया का मामला….

डिंडौरी (रामसहाय मर्दन)| जनपद पंचायत समनापुर अंतर्गत ग्राम पंचायत अतरिया के ग्रामीणों ने ग्राम पंचायत में पदस्थ सचिव केशू सिंह राजपूत पर फर्जी अंकसूची लगाकर सचिव की नियुक्ति प्राप्त करने के आरोप लगा कलेक्टर से शिकायत कर निष्पक्ष जांच कराने की मांग की हैं।

ग्रामीणों के द्वारा दिए गए आवेदन पत्र में उल्लेख किया गया है कि ग्राम पंचायत बुडरूखी जनपद पंचायत समनापुर द्वारा पंचायत कर्मी की नियुक्ति किया गया था जिसमें कुल 03 आवेदकों द्वारा आवेदन किया गया था जिस पर केशू सिंह राजपूत का कक्षा 12वीं में 483 प्राप्तांक प्रथम श्रेणी बताकर ग्राम पंचायत के प्रस्ताव में केशू सिंह राजपूत का अधिक अंक होने से नियुक्ति जाती है ऐसा लिखकर प्रस्ताव पारित कर नियुक्ति की गई थी।

जिस पर ग्रामीणों ने आरोप लगाए हैं कि केशूसिंह राजपूत के द्वारा फर्जी अंकसूची लगाकर आवेदन किया गया था जो फर्जी अंकसूची वर्ष 1992 वाले में 483 प्राप्तांक और प्रथम श्रेणी है। जबकि केशव सिंह राजपूत की वास्तविक अंकसूची में 313 तृतीय श्रेणी हैं और अंकसूची की जन्मतिथि में भी कूट रचना किया गया है जबकि वास्तविक जन्मतिथि 13/ 5/1968 और नियुक्ति वाली अंकसूची में 15/05/1974 लिखा गया है। जबकि केशू सिंह पंचायत भर्ती के समय निर्धारित आयु सीमा को भी पूर्ण कर चुका था।

ग्रामीणों ने और कई गंभीर आरोप लगाए हैं ग्रामीणों के शिकायत अनुसार केशू सिंह राजपूत के द्वारा कूट चरित अंकसूची लगाकर पंचायत कर्मी पद नियुक्ति प्राप्त कर लेने के पश्चात जब ग्राम के लोगों एवं अन्य आवेदकों के द्वारा शिकायत की गई, तो जांचकर्ता अधिकारियों द्वारा लेनदेन कर मामले को दवा दिया गया। वही ग्राम पंचायत द्वारा नियुक्ति संबंधी प्रस्ताव अन्य दस्तावेजों की नकल मांगने पर ग्राम पंचायत में उपलब्ध नहीं है। जानकारी में ऐसा लिख कर दिया जाता है। कई वर्षों बाद गंगाबाई (जनपद सदस्य) के द्वारा जनपद पंचायत से जानकारी मांगने पर सूचना के अधिकार के तहत पारित प्रस्ताव का नकल दिया गया जिसमें केशू सिंह के द्वारा मूल प्रस्ताव को काट छांट कर उसका नकल दिया गया है जिससे स्पष्ट प्रतीत होता है कि केशू सिंह के द्वारा फर्जी अंकसूची लगाकर सचिव की नियुक्ति प्राप्त की गई है।

ग्राम बुडरूखी निवासी लल्ला सिंह ठाकुर के द्वारा विगत दिनों केशूसिंह की नियुक्ति संबंधी प्रस्ताव एवं दस्तावेज सूचना के अधिकार के तहत ग्राम पंचायत बुडरूखी से मांगा गया था जिसे जानकारी नहीं दिया गया और वही चाही गई जानकारी में लिखकर दिया गया की ग्राम पंचायत में रिकार्ड उपलब्ध नहीं है। शिकायत करने आए ग्रामीणों ने कलेक्टर विकास मिश्रा से ग्राम पंचायत अतरिया में पदस्थ सचिव केशू सिंह राजपूत की पद नियुक्ति संबंधी सभी रिकार्डों की जांच करा दोषी पाए जाने पर पद से पृथक करने की मांग की हैं।

वही उक्त आरोपों के संबंध में जब सचिव केशू सिंह राजपूत की पक्ष जानने के लिए फोन के माध्यम से संपर्क किया गया तो सचिव केशू सिंह के द्वारा फोन  रिसीव नहीं की गई।

 

editor

Related Articles