डिंडौरी,रामसहाय मर्दन। जिले के समनापुर विकासखंड अंतर्गत ग्राम सरई निवासी हेमकरण धुर्वे पिता चैन सिहं धुर्वे उम्र 36 वर्ष ने चांदरानी निवासी ग्राम सुरक्षा समिति का सदस्य लल्ला सिहं ठाकुर पिता धनीराम उम्र 45 वर्ष पर पुलिस प्रकरण का झांसा देकर 5000 रू. लेने के आरोप लगा एसपी से षिकायत कर अनावेदक लल्ला सिहं ठाकुर के विरूध्द ठोस कार्रवाई करने की मांग की है।
ये रहा पूरा मामलाः-
दरअसल समनापुर थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम सरई निवासी हेमकरण धुर्वे उम्र 36 वर्ष ने चांदरानी निवासी ग्राम सुरक्षा समिति का सदस्य लल्ला सिहं ठाकुर के विरूध्द पुलिस अधीक्षक से आवेदन पत्र के माध्यम शिकायत किया है जिसमें उल्लेख किया गया कि हेमकरण धुर्वे एक गरीब आदिवासी कम पढा लिखा किसान है जो खेती कर अपना जीवन यापन करता है लेकिन विगत दिनांक 22-10-2023 को 03 नग आवारा भैंस गांव में आये हुए थे जो रोजाना पीडित किसान के बाडी में रात के समय फसल का नुकसान कर रहे थे आवारा भैंसो के अतांक से हेमकरण धुर्वे समेत गांव के अन्य किसानों परेशान होकर सरपंच और मुकददम आवारा भैंसो के बारे में बताया तो सरपंच और मुकददम के कहने पर 03 नग आवारा भैंसों को पीडित किसान हेमकरण धुर्वे ने अपने घर में बांध लिया और देखरेख करने लगा।
शिकायत पत्र में यह भी उल्लेख किया गया कि इसकी जानकारी कुछ माह बाद अनावेदक लल्ला सिहं ठाकुर मिला कि 03 नग आवारा भैंस हेमकरण धुर्वे के घर ने बांधा है तो दिनांक 22-10-2024 सुबह लगभग 10 बजे खाखी वर्दी पहने हुए पीडित किसान हेमकरण धुर्वे के घर आकर कहने लगा कि मैं ग्राम सुरक्षा समिति का सदस्य हॅू । आपके द्वारा 03 नग भैंसों को बांध लिया गया है, जिसकी सूचना रिर्पोट समनापुर थाना में है। टीआई साहब ने मुझे भेजा है, तेरे खिलाफ प्रकरण दर्ज कर जेल भेज दिया जाएगा, केस से बचना है तो 5000 रू. दे दो थाना प्रभारी को देकर मामला नहीं बनने दूगां।
5 हजार रू. दो तो थाना प्रभारी को देकर पुलिस प्रकरण नहीं बनने दूगां….
वहीं पीडित किसान हेमकरण धुर्वे का कहना है कि मैं एक गरीब व्यक्ति व कम पढा लिखा होने और पुलिस थाना, केश की डर के कारण में अपने पडोसी रमेश सिंह सैयाम पिता बुद्धसिंह को बुलाकर लाया और अनावेदक लल्ला सिहं ठाकुर को मेरे पडोसी के द्वारा भी बताया गया कि तीनो आवारा मवेशी रोजाना फसल नुकसान कर रहे थे इस कारण ग्राम के लोगो एवं मुकद्दम कोटवार को बताकर फसल बचाने के उददेश्य से बॉँध लिया गया है लेकिन अनावेदक लल्ला सिहं ठाकुर के द्वारा बात ना मानते हुये धमकी देने लगा कि जब थाना में डंड़ा पड़ेगा और जेल जायेगा,तभी तेरे को पता चलेगा। अभी 5000 रू में काम बनने वाला है तो पैसा नहीं दे रहा है जब थाना में अंदर होगा और 50 हजार रुपये खर्च करेगा और जेल जायेगा तब पता चलेगा। इस प्रकार की धमकी दिये जाने पर मैं डर के कारण अनावेदक को 5000 रू. दिया। उस वक्त पडोसी रमेश सिंह सैयाम पिता बुद्ध सिंह उपस्थित रहा है।
पैसा लेने के 2 दिन बाद दिनांक 28,01.2024 को अनावेदक लल्ला सिहं ठाकुर के द्वारा गौरेला निवासी नरेश सिंह को मेरे घर लाकर तीनों मवेशियो को दिलवा दिया गया और नरेश सिंह के द्वारा सूचना रिपोर्ट थाना गौरेला में दिया था ,जिसमें 2 नग मवेशी जिनकी उम्र ও एवं 4 वर्ष लिखाया गया था। पीडित किसान हेमकरण धुर्वे ने बताया कि मेरे पास जो 3 नग मवेशी थे उनका उम्र 8 से 10 वर्ष की थी इस प्रकार अनावेदक लल्ला सिहं ठाकुर के द्वारा 2 नग के स्थान पर 3 नग दिया गया और मुझ आदिवासी एक गरीब कास्तकार को धमकी देकर 5000 रू ले लिया गया है। पीडित किसान हेमकरण धुर्वे ने पुलिस अधीक्षक से पुलिस प्रकरण का झांसा देकर 5000 रू. लेने के आरोप लगा अनावेदक लल्ला सिहं ठाकुर के विरूध्द ठोस कार्रवाई करने व 5 हजार वापस दिलाए जाने की मांग की है।

editor

Related Articles