प्रबुद्धजनों की संगोष्ठी व पिछड़ा वर्ग के सभी समाज के प्रमुखों का साल श्रीफल फूल माला से किया स्वागत सम्मान….

डिंडौरी| भाजपा पिछड़ा वर्ग मोर्चा के द्वारा महात्मा ज्योतिबा फुले की जयंती पंडित दीनदयाल परिसर भाजपा कार्यालय डिंडौरी में मनाया गया। सबसे पहले पंडित दीनदयाल उपाध्याय, श्यामा प्रसाद मुखर्जी एवं भारत माता की तैल चित्र पर पूजन अर्चन कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। इस अवसर पर प्रबुद्धजन संगोष्ठी आयोजित कर पिछड़ा वर्ग समाज के वरिष्ठजनों का सम्मान एवं महात्मा ज्योतिबा फुले जयंती कार्यक्रम सम्पन्न किया। बैठक मे मंचासीन अतिथि यशस्वी भाजपा जिलाध्यक्ष अवधराज बिलैया, ओबीसी मोर्चा के डिण्डौरी जिले के प्रदेश प्रभारी प्रदेश एवं कार्यसमिति सदस्य श्री कमल गुमास्ता, आज के कार्यक्रम के मुख्य वक्ता भाजपा के वरिष्ठ नेत अशोक अवधिया, भाजपा जिला महामंत्री जय सिंह मरावी,राठौर समाज के वरिष्ठ नेता समाजसेवी पी.एस. चंदेल, मोतीलाल बर्मन, तीरथ साहू, विवेक पारस, शाहपुर मंडल अध्यक्ष सुशील राय, पिछडावर्ग मोर्चा जिलाध्यक्ष दशरथ सिंह राठौर सहित समाज प्रमुखों की उपस्थिति मे संगोष्ठी एवं पिछड़ा वर्ग समाज के समाज प्रमुखों का सम्मान कार्यक्रम सम्पन्न हुई। उक्त संगोष्ठी को भाजपा जिलाध्यक्ष अवधराज बिलैया ने संबोधित करते हुए कहां की आज महान विचारक ,समाज सुधारक , लेखक एवं सत्यशोधक समाज के संस्थापक महात्मा ज्योतिबा फुले जी की जयंती पर प्रकाश डाला भारतीय जनता पार्टी की केंद्र एवं राज्य सरकार की जन कल्याणकारी योजनाओं के बारे में समस्त पदाधिकारियों को विस्तार से बताया उन्होंने कहा कि गांव-गांव चलो घर-घर चलो अभियान को ओबीसी मोर्चा जिला से लेकर मंडल स्तर तक लगातार 6 अप्रैल से 14 अप्रैल तक गांव गांव जाकर चौपाल लगाकर सभी मंडल अध्यक्ष जिला अध्यक्ष मिलजुल कर इस कार्यक्रम को सफल बनाएं। प्रदेश प्रतिनिधि कमल गुमास्ता मंच को संबोधित करते हुए कहा कि डिंडोरी जिले के सभी मंडल अध्यक्ष जिला पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता बढ़-चढ़कर इस महाअभियान गांव गांव चलो घर घर चलो को सफल बनाएं एवं भारतीय जनता पार्टी पिछड़ा वर्ग मोर्चा के प्रदेश नेतृत्व के आवाहन में जो भी कार्य जिला स्तर को दें उसे, पिछड़ावर्ग मोर्चा के सभी कार्यकर्ता समय पर करें। पिछड़ा वर्ग मोर्चा के जिलाध्यक्ष दशरथ सिंह राठौर ने मंच को संबोधित करते हुए मंचासीन सभी वरिष्ठ भाजपा नेता एवं पिछड़ा वर्ग मोर्चा के जिला पदाधिकारी मंडल पदाधिकारी एवं सभी समाज प्रमुखों का हार्दिक स्वागत वंदन अभिनंदन करते हुए उन्होंने बताया कि भारतीय जनता पार्टी पिछड़ा वर्ग मोर्चा के यशस्वी प्रदेश अध्यक्ष नारायण सिंह कुशवाहा पूर्व मंत्री मध्य प्रदेश शासन एवं मोर्चा के प्रदेश महामंत्री/ संभागीय प्रभारी संतोष राठौर,मोर्चा के प्रदेश मंत्री संभागीय सहप्रभारी मा.दीपक नरवरिय व भाजपा जिला अध्यक्ष अवधराज बिलैया के निर्देशानुसार प्रदेश स्तर से एवं जिला स्तर से जो भी कार्य मोर्चा को दिया गया है मोर्चा के सभी पदाधिकारियों द्वारा पूर्ण निष्ठा एवं ईमानदारी से किया गया है । आज हम सभी पिछड़ा वर्ग मोर्चा के इस भव्य और दिव्य कार्यक्रम गांव गांव चलो घर-घर चलो अभियान के तहत आज जिला सम्मेलन में महात्मा ज्योतिबा फुले की जयंती के अवसर पर पिछड़ा वर्ग के वरिष्ठजनों की संगोष्ठी एवं पिछड़ा वर्ग के समाज प्रमुखों का सम्मान हेतु उपस्थित हुए हैं। प्रदेश नेतृत्व के द्वारा जो भी कार्यक्रम का निर्देश मिला है हमने जिला संगठन के मार्गदर्शन से पूर्व में जो कार्यक्रम संपन्न किए हैं। साथ ही अब आगामी कार्यक्रम गांव गांव चलो घर-घर चलो अभियान के तहत हमें भाजपा की केंद्र व राज्य सरकार की योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाने हेतु मोर्चा के सभी पदाधिकारी संपर्क कर रहे हैं। 14 अप्रैल को हम सभी पदाधिकारियों को बाबा साहब डॉ. भीमराव अंबेडकर जी की जयंती मनाना है। साथ ही हम पिछड़ा वर्ग के पदाधिकारी उक्त कार्यक्रम को संपन्न कराकर जिले के सभी मंडल के गांव-गांव एवं पोलिंग बूथ शक्ति केंद्र तक सभी कार्यकर्ता काम करेंगे।, कार्यक्रम के मुख्यवक्ता भाजपा के वरिष्ठ नेता अशोक अवधिया ने महात्मा ज्योतिबा फुले की जन्म जयंती के बारे में विस्तार से बताया महात्मा ज्योतिबा फुले एक समाज सुधारक थे इन्हें महात्मा फुले ज्योतिबा फुले के नाम से जाना जाता है। महात्मा फुले का जन्म 11 अप्रैल 1827 में पुणे में हुआ था। उनकी माता का नाम चिमणा बाई व पिता का नाम गोविंदराव फुले था। उनका परिवार माली का काम करता था वह सतारा से पुणे फूल लाकर फूलों के गजरे बनाने का कार्य करते थे उनकी पीढ़ी फुले के नाम से जानी जाती थी। ज्योतिबा बहुत बुद्धिमान थे उन्होंने मराठी के अध्ययन किया वे महान क्रांतिकारी भारतीय विचारक समाजसेवी थे। उनकी सबसे बड़ी विशेषता यह थी कि वह जो भी कहते थे उसे अपने आचरण और व्यवहार में उतारकर दिखाते थे सभी समाजों का समानता का अधिकार दिलाने का कार्य किया। उन्होंने अपना संपूर्ण जीवन महिलाओं को शिक्षा प्रदान कराने एवं महिलाओं को उनके अधिकार के प्रति जागरूक करने में अपना जीवन व्यतीत किया फुले जी का उद्देश्य महिलाओं को शिक्षा का अधिकार दिलाना था। उन्होंने जो शिक्षा की नींव रखी उस भवन के शिखर पर आज की नई शिक्षा नीति के रूप में झंडा फहरता नजर आ रहा है। बाल विवाह, विधवा विवाह का विरोध किया। महात्मा ज्योतिबा फुले ने मैकाले शिक्षा नीति का विरोध कर भारतीयों को जन जागरण का शंखनाद किया।

24 सितंबर 1873 को महात्मा ज्योतिबा फुले ने सत्यशोधर समाज की स्थापना की डॉ. भीमराव महात्मा ज्योतिबा फुले को अपना गुरु मानते थे। इसी तरह मुख्य वक्ता अवधिया जी ने महात्मा ज्योतिबा फुले जी के जीवनी के बारे में विस्तार से मार्गदर्शन दिया । साथ ही सभी समाज के प्रमुखों का सम्मान किया गया । जैसे साहू समाज से तीरथ प्रसाद साहू, राठौर समाज से पी. एस. चंदेल जी, यादव समाज से श्री भगत यादव, बर्मन,मांझी,नंदा समाज से सरवन लाल बर्मन,पनिका समाज से तुलसी दास मानिकपुरी, राय समाज से सुशील राय, अवधिया/सोनी समाज से अशोक अवधिया , विश्वकर्मा समाज, सेन समाज इंद्रेश श्रीवास, लोधी ठाकुर समाज से हरनाम सिंह लोधी जी, सुरेंद्र सिंह मेहंदेल, नामदेव समाज से शंकरलाल नामदेव,इत्यादिद्ध के प्रमुखों का शाॅल श्रीफल एवं फुलमाला से जोरदार स्वागत सम्मान किया गया। उक्त कार्यक्रम का संचालन यथलेश पारस एवं आभार बबलू गौतम ने व्यक्त किया। संगोष्ठी कार्यक्रम मे मुख्यातिथि सहित जिलेभर के ओबीसी मोर्चा के जिला पदाधिकारी, मंडल अध्यक्षगण, मंडल पदाधिकारी एवं मोर्चा के सभी कार्यकर्ता पिछड़ा वर्ग के गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे।

editor

Related Articles