(डिंडौरी) मणिपुर राज्य में महिलाओं पर हुए दुष्कर्म,अत्याचार के घटनाओं पर राज्य सरकार की कार्यप्रणाली न्यायपूर्ण नहीं:—सर्व महिला समाज…

(डिंडौरी) मणिपुर राज्य में महिलाओं पर हुए दुष्कर्म,अत्याचार के घटनाओं पर राज्य सरकार की कार्यप्रणाली न्यायपूर्ण नहीं:—सर्व महिला समाज…

सर्व महिला समाज डिंडौरी ने राष्ट्रपति के नाम ज्ञानप सौंप मणिपुर राज्य में शांति व्यवस्था बनाने की मांग….

डिंडौरी,रामसहाय मर्दन| विगत दिनों मणिपुर राज्य में आदिवासी महिलाओं पर हुए दुष्कर्म अत्याचार, मानवता को शर्मसार करने वाली घटनाओं से पूरा देश शर्मसार है और राज्य सरकार की कार्यप्रणाली न्यायपूर्ण नहीं होने के आरोप लगाते हुए सर्व महिला समाज डिंडौरी के द्वारा आज राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा है।महिला समाज डिंडौरी के द्वारा सौंपे गए ज्ञापन में उल्लेख किया गया है कि मणिपुर राज्य में विगत 75 दिनो से हो रही बीभत्स घटनाऐं महिलाओं को नग्न कर जुलूस निकालना, बलात्कार गैंगरेप, हत्या करना घर जलाना, सैकड़ो लोगों की हत्याएं की जा रही है, प्रदेश में इंटरनेट सेवा बंद होने से वहा की सैकड़ो घटनाऐं देश जान नहीं पा रहा है। आजादी के बाद जितने भी दंगे हुए हैं मणिपुर की घटनाओं ने सबको पीछे छोड़ दिया है। सर्व महिला समाज का कहना कि मणिपुर राज्य सरकार दंगा हत्या बलात्कार गैंगरेप को रोकने कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए। वहीं मणिपुर के मुख्यमंत्री के द्वारा टीव्ही पत्रकार को दिए बयान में यह साबित होता है कि सैकड़ों लोगों के साथ प्रतिदिन अत्याचार शोषण हो रहा है, इसलिए राज्यपाल महोदय एंव  राष्ट्रपति महोदया अतिशीघ्र मणिपुर राज्य में हो रहे हत्याऐं, बलात्कार, विस्थापन, घर जलाने जैसी घटनाओं को अतिशीघ्र सज्ञान में लेकर संवैधानिक अधिकारों का प्रयोग करते हुए राज्य में शांति व्यवस्था पर करने निर्देश जारी किया जाए या फिर मणिपुर में राष्ट्रपति शासन लागू किया जाये। ज्ञापन सौंपने के दौरान उपस्थित रहे डॉ रश्मि मरावी, सोनल सैयम, अनुपमा धुर्वे, रोहणी मरकाम, पुष्पा मरावी, सुनीता मरावी, शशि मरकाम, रेणुका मरावी, सुषमा धुर्वे, शकुंतला मरकाम सहित बड़ी संख्या में महिलाएं शामिल रहीं।

editor

Related Articles