बहुमूल्य विभिन्न शासकीय भूमियों पर बेजाकब्जा के उपरांत राजस्व विभाग के द्वारा नहीं की जा रही कर्रवाई…

डिंडौरी/शहपुरा| जिले के शहपुरा विकासखंड अंतर्गत राष्ट्रीय राजमार्ग NH45 से लगे बेशकीमती जमीन पर अवैध रूप से कब्जा कर  निर्माण करने का मामला सामने आया है। शहपुरा निवासी शिकायतकर्ता अशोक कुमार पाठक, मनीष साहू और अमित कुशवाहा का आरोप है कि राकेश, दिनेश गुप्ता वल्द चमरू गुप्ता के द्वारा बेशकीमती शासकीय की जमीन पर अवैध रूप से कब्जा कर अतिक्रमण किया जा रहा है। जिसे लेकर कलेक्टर से शिकायत कर अतिक्रमण हटाने और दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करने मांग की है।

कलेक्टर को दिए गए शिकायत पत्र में उल्लेख किया गया है कि शहपुरा के वार्ड नम्बर 01 में स्थित गुप्ता मैरिज गार्डन है जो राष्ट्रीय राजमार्ग NH45 से लगा हुआ है जिसका संचालक राकेश, दिनेश गुप्ता वल्द चमरू गुप्ता है जो वार्ड नम्बर 01 का स्थाई निवासी है, जिसके द्वारा विगत कई वर्षो से राजस्व,कर्मचारियों, अधिकारियों से साठ-गाठ कर नगर की बेस कीमती विभिन्न शासकीय भूमियों में कब्जा कर करोड़ो का व्यवसाय करता आ रहा है जिसकी शिकायत विगत 2008-09 से की जाती रही है लेकिन आज दिनॉक तक किसी भी राजस्व अधिकारी / कर्मचारी द्वारा उक्त बेस कीमती शासकीय भूमि को आदतन अतिक्रमणकर्ता भू माफिया राकेश, दिनेश वल्द चमरू गुप्ता से मुक्त नही की जा सकी है। यह कि उक्त माफिया द्वारा समय समय पर राजस्व अधिकारियों / कर्मचारियों से अतिक्रमित शासकीय भूमि के खसरे में फर्जी दस्तावेजों के आधार पर फर्जी इंद्राज करते आ रहा है जिसकी शिकायत कई लोगो द्वारा समय-समय पर की जाती रही है। किन्तु राजस्व अधिकारियों के द्वारा उस जॉच करने के बाद जॉच बंद कर दी जाती रही है जिससे यह प्रतीत होता रहा है कि राजस्व अम्ले द्वारा भूमि माफिया के पक्ष में ही बात करते हुए जॉच बिन्दूओं को प्रभावित कर भू माफिया को पूर्ण रूप से लाभ प्रदान किया जाता रहा है जो अपने आप में राजस्व अम्ले की भ्रष्टाचारिताँ को उजागर करता है।

वहीं उक्त भू-माफिया द्वारा विभिन्न शासकीय भूमियों को अतिक्रमण कर जो व्यवसाय कई वर्षो से करता आ रहा है उसे तत्काल बंद करवा कर उक्त शासकीय भूमि को भू-माफिया के चंगूल से अविलम्ब मुक्त कराने की मांग की है। साथ ही उक्त भू-माफिया को आदतन अपराधी घोषित कर दंण्डित करने की मांग भी गई है। क्योंकि पूर्व के राजस्व अधिकारी द्वारा उक्त भू-माफियॉ को आदतन अपराधी कहा गया है। यह कि भू-माफिया द्वारा जिन जिन शासकीय भूमियों को अतिक्रमित किया है उनमें से एक भूमि रास्तामद की भूमि है जो वार्ड नम्बर 01 कलोनी को जाती है जिसमें राजस्व विभाग के एसडीएम रीडर द्वारा अतिक्रमण कर मकान बना रखा है साथ ही तत्कालीन हल्का पटवारी द्वारा उक्त रास्तामद की भूमि को स्वयं एवं अपने रिश्तेदार को विक्रय पर्ची स्वयं काटकर विक्री कर ली गई है

रास्ता मद की शासकीय भूमि को ही स्वयं के द्वारा ही खरीद लिया गया जो जॉच कर उक्त रास्ता को तत्काल खोलने की मांग की है। जिससे रहवासयिों का आना जाना ( रास्ता) सुगम हो सके। साथ ही आरोप है कि भू-माफिया द्वारा बहुमूल्य विभिन्न शासकीय भूमि को अपने पक्ष में करवाकर उन्हें 15 – 16 लोगों को विक्री कर लिया गया जिसमे पूरा राजस्व अम्ला अच्छी खासी मोटी रकम लेकर विक्री करवाता रहा है। विक्री किये गये शासकीय भूमि की सूक्ष्मता से जाँच कराकर दोषी लोगो पर कड़ी कार्यवाही करते हुए उक्त भूमि को मुक्त कराया जाना शासन हित में होगा जो कि वर्तमान में कई करोड़ रूपये की भूमि है। धारा 145 के तहत् जो राष्ट्रीय राजमार्ग में शासकीय भूमि है जिस पर अनावेदकगण निर्माण कार्य कर रहा था उसमें रोक लगाने एवं उक्त शासकीय भूमि को पूर्ण रूप से मुक्त करने सम्बंधी जो प्रकरण चल रहा था जिसमें अनावेदक से उक्त शासकीय भूमि को तत्काल मुक्त करने सम्बंधी पूर्व के तहसीलदार शहपुरा के तीन आदेश और अन्य राजस्व अधिकारियों के आदेश संलग्न होने पर भी उक्त प्रकरण को ही केवल धारा145 के तहत आधार बनाकर खारिज कर दिया गया है ।

जिस शासकीय भूमियों को तहसीलदार शहपुरा एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा अतिक्रमण अविलम्ब हटाने सम्बंधी आदेश पारित किया गया है जिनका संज्ञान अनुविभागीय अधिकारी को पूर्व से होते हुए भी उक्त आदेश के परिपालन को दरकिनार करते हुए प्रकरण को खारिज करना संदेह से परे है ? शिकायतकर्ता अशोक कुमार पाठक, मनीष साहू और अमित कुशवाहा ने कलेक्टर महोदय से उक्त भू-माफियाओं से बेसकीमती शासकीय भूमियों को अतिक्रमण मुक्त करा दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करने मांग की है।

editor

Related Articles