डिंडौरी|राठौर समाज की आवाज को भाजपा ने किया अनसुना,तो आगामी विधानसभा और लोकसभा चुनाव में समाज एकजुट होकर करेगा बहिष्कार

डिंडौरी|राठौर समाज की आवाज को भाजपा ने किया अनसुना,तो आगामी विधानसभा और लोकसभा चुनाव में समाज एकजुट होकर करेगा बहिष्कार

पूर्व जिला पंचायत उपाध्यक्ष कृष्णा सिंह परमार को BJP जिलाध्यक्ष बनाने की माँग,परिणाम भुगतने की दी चेतावनी

डिंडौरी(रामसहाय मर्दन)| भाजपा जिला अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी नए व्यक्ति को सौंपे जाने की सुगबुगाहट के बीच जिले में गहमागहमी लंबे समय से चल रही है। पार्टी के कई नेता अध्यक्ष पद पाने के लिए दिल्ली और भोपाल के चक्कर काट रहे है। वहीं अपने आकाओ को मानने में लगे कार्यकर्ता लामबंदी भी कर रहे है।तमाम गहमागहमी, अटकलों, जारी प्रयासों के बीच अब तक प्रदेश संगठन की ओर से जिला अध्यक्ष पद पर नए व्यक्ति की नियुक्ति के संबंध में कोई स्पष्ट संकेत नहीं दिए गए है। तब भी बदलाव की संभावना को देखते हुए पार्टी के कई नेता भारी भरकम प्रयासों में लगे हुए है। इसी क्रम में मंगलवार को केंद्रीय मंत्री व स्थानीय सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते के आगमन पर राजपूत राठौर (ठाकुर) समाज ने अपने समाज के व्यक्ति को अध्यक्ष बनाए जाने की मांग करते हुए पूर्व जिला पंचायत उपाध्यक्ष कृष्णा सिंह परमार को भाजपा जिला अध्यक्ष बनाए जाने की मांग रखते हुए, केंद्रीय मंत्री को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के नाम एक मांग पत्र सौंपा। समाज द्वारा दिए गए पत्र में कहा गया है कि डिण्डौरी जिला भाजपा अध्यक्ष का मनोनयन किया जाना है। विदित होवे कि इस जिले में राठौर समाज 52 ग्राम में निवासरत है। हमारे समाज का वर्तमान में लगभग 40 हजार मतदाता है। उल्लेखनीय यह है कि ये मतदाता जिले के दोनों विधान सभा क्षेत्र डिण्डौरी / शहपुरा को प्रभावित करते है। इस संदर्भ में राठौर समाज की मांग है कि हमारा समाज जनसंघ के समय से आज तक भाजपा के पक्ष में हमेशा मतदान करता आ रहा है। लेकिन पार्टी द्वारा हमें जिला संगठन एवं प्रदेश संगठन के महत्वपूर्ण पदों पर कभी अवसर नहीं दिया जाता।समाज पार्टी के समर्पित कार्यकर्ता होने के कारण और पार्टी में फूट न पडे इस कारण केवल मतदाता बनकर ही रह गया है। आज तक इस समाज के लोगों को जिला अध्यक्ष पद हेतु अवसर नहीं दिया गया है। इसके विपरीत अवसरवादियों को अध्यक्ष पद से नवाजा जाता है। इसका परिणाम वर्तमान जिला पंचायत एवं नगरीय निकाय चुनाव में स्पष्ट दिखाई दिया है। इसके वावजूद यदि जिला अध्यक्ष जैसे अहम पद पर सही व्यक्ति का चुनाव नहीं किया गया उस स्थिति में राठौर समाज अगामी विधान सभा एवं लोक सभा चुनाव में भाजपा को छोडने हेतु मजबूर हो जायेगा। जिले में जैन समाज, अग्रवाल समाज, ब्राम्हण समाज एवं साहू समाज अल्पसंख्यक है तब भी इन्हें भाजपा जिला अध्यक्ष पद पर 3 बार जैन समाज, 1 बार अग्रवाल समाज को 1 बार ब्राम्हण समाज को 3 बार साहू समाज को अवसर दिया जा चुका है। लेकिन बहुसंख्यक राठौर समाज के व्यक्ति को एक बार भी अवसर नहीं दिया गया है। राठौर समाज पूर्व में कृषि पर निर्भर रहा है परन्तु अब इस समाज के व्यक्ति शासकीय कर्मी, अधिवक्ता, व्यापारी, प्रोफेसर, डॉक्टर के रूप में सेवारत है। सभी मतदाता शिक्षित एवं जागरूक है इसलिए समाज के समस्त मतदातागण मुखरित होकर अधिकार चाहते हैं और समूचा राठौर समाज विश्वास दिलाता है कि पार्टी में कार्य करने का अवसर मिलने पर इस समाज द्वारा चयनित प्रतिनिधि समर्पित होकर पार्टीहित में कार्य करते हुये प्रत्येक मोर्चे में पार्टी का विजय श्री दिलाने हेतु प्रतिबद्ध रहेगा। प्राप्त जानकारी के अनुसार समाज के कई प्रभावशाली व्यक्ति और भाजपा कार्यकर्ता पुरानी डिंडोरी स्थित कृष्णा परमार के निवास पर एकत्र हुए थे और उन्होंने वही केंद्रीय मंत्री एवं सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते को चर्चा हेतु बुलाया और अपना पक्ष रखते हुए। समाज के व्यक्ति को जिला अध्यक्ष बनाए जाने की मांग की। इस दौरान कुलस्ते के साथ वर्तमान भाजपा जिला अध्यक्ष नरेंद्र राजपूत भी राजपूत समाज की इस बैठक में शामिल रहे। वही देखने वाली बात होगी कि केंद्रीय मंत्री फग्गनसिंह राजपूत समाज की माँग को सीएम शिवराज सिंह चौहान और वीडी शर्मा तक पहुंचाते हैं या नही ..?

editor

Related Articles