डिंडौरी (रामसहाय मर्दन)। अमरपुर विद्युत वितरण केंद्र की सभी फीडर पिछले 50 घंटे से पूरी तरह से अंधेरे में डुबा रहा। बता दे कि 22 जुलाई की दोपहर 12 बजे से विद्युत प्रवाह बांधित हुआ जोकि 24 जुलाई को भी समाचार लिखे जाने तक विद्युत प्रवाह बहाली नहीं की जा सकी हैं। जिससे आमजनों का जन जीवन पूरी तरह से अस्त-व्यस्त हो गया हैं। लोगों को पीने के लिए न तो शुद्ध पानी मिल पा रहा हैं और न ही रोटी बनाने के लिए आटा, इस समय ग्रामीण क्षेत्र की जनता बद से बद्तर जीवन व्यतित करने पर मजबूत हो रहे हैं। विद्युत से बंधित व्यवसाय भी पूरी तरह से प्रभावित हो रहे हैं। राज्य सरकार के मुखिया कहते हैं कि उपभोक्ताओं को 24X7 घंटे बिजली उपलब्ध कराई जा रही हैं। वहीं पर विद्युत मंत्री कहते हैं कि ट्रिपिंग कंट्रोल किया जाएगा। यहां पर पूरे एक विद्युत वितरण केन्द्र के पूरे गांव लगभग 50 घंटे से अंधेरे में डुब गया हैं। इस संबंध में कांग्रेस ब्लॉक अध्यक्ष का कहना हैं कि भाजपा को आम जनता से सरोकार हैं ही नहीं जनता तो नकार देती हैं। उन्हें तो मात्र विजयी हुए बिकाऊ विधायकों से मतलब रहता हैं। जनता वोट दे ना दे विधायक तो मिल ही जाते हैं। विद्युत विभाग के कनिष्ठ अभियंता तिवारी का कहना हैं कि खम्भे गिर गए हैं, जिन्हें लगाने में बारिश की वजह से परेशानी उत्पन्न हो रही हैं, कोशिश की जा रही हैं। खम्भे गिरे भी क्यों न निर्धारित मापदंड अनुसार खम्भे लगाये ही नहीं जाते हैं तो बारिश के दिनों में खम्भों का गिरना लाजमी हैं। यह तो विद्युत विभाग की निष्क्रियता ही समझा जाये, परंतु इससे क्षेत्र की आम जनता परेशान हैं। क्षेत्रीय विद्युत उपभोक्ताओं को बिजली तो मिल ही नहीं पा रही हैं। और इसके साथ ही केरोसीन तक दुर्लभ वस्तु की श्रेणी में पहुंच गया जिसकी कीमत 83 रूपए प्रति लीटर पहुंच चुकी हैं, जोकि गरीबों से अत्याधिक दूर पहुंच चुकी हैं।

administrator, bbp_keymaster

Related Articles