किसी मंत्री, सांसद या विधायक की नहीं वो तो गरीब की लड़की है साहब, इसलिए परिजनों के कहने पर पुलिस खोजबीन में नही जुटी?

किसी मंत्री, सांसद या विधायक की नहीं वो तो गरीब की लड़की है साहब, इसलिए परिजनों के कहने पर पुलिस खोजबीन में नही जुटी?

जबलपुर नवनीत दुबे| बीते 5 दिनों से खितौला थाना क्षेत्र निवासी 13 वर्षीय मिंकू मिश्रा उर्फ परी घर से लापता है, जिसकी जानकारी प्राप्त करने परिजन प्रतिदिन अपनी नाबालिक मासूम बिटिया के लिए खाखीवर्दी के सामने हाथ पैर जोड़कर नम आंखों से लापता बिटिया को जल्द से जल्द ढूंढने गुहार लगा रहे है, पर सिर्फ आस्वाशन के सिवा कुछ नही मिल रहा, ऐसा हो भी क्यो न गरीब आदमी की औकात ही कितनी होती है जगजाहिर है? उसकी सुनवाई के नाम पर सिर्फ रस्म अदायगी की जाती है ओर रही बात परी मिश्र की तो वो कौनसा किसी मंत्री, विधायक, सांसद या किसी रशुकदार की बिटिया है जो पुलिस प्रशासन पूरी सजगता ओर कर्तव्यनिष्ठा के साथ लापता 13 वर्ष की मासूम को खोजने जी जान लगा दे, साहब वो तो गरीब की लड़की है और किसी गरीब में इतना साहस कहा जो खाखीधारी से ऊंची आवाज में बात कर सके और उनके कर्तव्य का बोध करा सके क्योकि गरीब आदमी भली भांति जनता है कि पुलिस वालों के दुर्व्यवहार ओर थाने से धक्के मारकर भगा दिया जायेगा, पुलिस तो सिर्फ बड़े दिग्गज नेताओं की ही भाषा समझती है और उनकी खरी खोटी सुनकर भी उनकी सेवा में तत्पर रहती है, मुद्दे की बात ये है कि सिहोरा खितौला निवासी सातवी कक्षा की छात्रा जो अपने परिजन से डांट पड़ने से रूठकर कही चली गई संभवतः परिजनों को भी इसकी तनिक भी आभास नही होगा कि नाराज होकर गई बिटिया एकाएक कहा गुम हो गई, ये कहना भी अतिशयोक्ति नही होगा कि चर्चाओं बाजार में मिंकू को लेकर भांति-भांति की बाते की जा रही होंगी, किंतु सोचनीय ये है कि आखिर 5 दिन से लापता मिंकू कहा है कही गलत लोगो के चंगुल में तो नही फस गई या कही किसी गिरोह का शिकार तो नही बन गई? अब प्रश्न उठता है कि इस मासूम की गुमशुदगी की रिपोर्ट खितौला थाना में दर्ज है लेकिन थाना प्रभारी द्वारा इस मामले के प्रति कितनी गंभीरता दिखाई जा रही है ये 5 दिन से लापता मासूम का अभी तक कोई पता न चलना थाना प्रभारी महोदया की कर्तव्यनिष्ठा दर्शा रहा है तो वही भांजियों के मामा शिवराज जी ने कानून व्यवस्था ओर पुलिस विभाग को ये कैसे दिशा निर्देश दिए है कि अपराध दिन ब दिन बढ़ रहे है और खाखीधारी पूर्ण सजगता ओर ईमानदारी से काम कर रहे है, शायद पुलिस कर्मी भी जानते है कि त्वरित, ओर पूर्ण सजगता के साथ व्यक्ति के ओहदे ओर रशुख को दृष्टिगत रखते हुए कार्य करना है और आम गरीब व्यक्ति के लिए कितनी सजगता दर्शना है? कलम का आशय कदापि ये नही के खाखी की कर्तव्यनिष्ठा पर उंगली उठाई जा रही है लेकिन 13 वर्षीय लड़की के इतने दिनों से लापता होने के बाद भी संबंधित थाना प्रभारी द्वारा की जा रही कार्यवाही गुमशुदा के परिजनों को हताशा ओर भयभीत विचारों से ग्रषित किये हुए है, हालांकि पुलिस कप्तान बहुगुणा जी के संज्ञान में संभवतः ये मामला नही आया होगा वरना पुलिस कप्तान लापता मिंकू को हर संभव प्रयोजन कर खोजबीन कर ही लेते?

administrator, bbp_keymaster

Related Articles