खबर प्रकाशन के बाद जागा जिला प्रशासन कलेक्टर विकास मिश्रा और PMGSY जेपी मेहरा ने रमपुरी रोड का निरीक्षण कर बोर्ड लगाने के दिए निर्देश….
डिंडौरी, रामसहाय मर्दन। विगत दिनों जिले के ग्रामीणों क्षेत्रों में बने प्रधानमंत्री सड़कों में क्षमता से अधिक भार वाले वाहन चलने के कारण ज्यादातर सड़कों की हालत खस्ताहाल होकर खराब हाने की खबर साईड लुक समाचार पत्र में प्रमुखता से “जिले के प्रधानमंत्री सड़कों की सूरत बिगाड़ रहे ओवर लोड भारी वाहन, जिम्मेदार विभाग के अधिकारी बने मूकदर्शक” शीर्षक नाम से प्रकाशित किया गया था। जिसपर संज्ञान लेते हुए आज कलेक्टर विकास मिश्रा ने डिंडौरी-मंडला मुख्य मार्ग से रमपुरी तक भारी वाहन से क्षतिग्रस्त PMGSY सड़क का निरीक्षण किया और क्षतिग्रस्त रोड़ का आकस्मिक निधि के तहत मरम्मत कार्य कराने के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया गया है। साथ ही उक्त रोड़ में भारी वाहनों की प्रवेश में प्रतिबंध लगाने के लिए बोर्ड लगाने के निर्देश भी दिए हैं। इस दौरान जीएम PMGSY जेपी मेहरा सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

दरअसल जिले के अमरपुर विकासखंड अंतर्गत आने वाली ग्रामीण क्षेत्र मण्डला-डिंडौरी रोड से रमपुरी जाने वाली प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना से बनी सडक कुछ महीनों बाद ही उखड़ने लगी हैं। गौरतलब यह कि प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत सडक मण्डला-डिंडौरी रोड से रमपुरी जिसकी क्षमता 8 टन तक भार वाली गाड़ियों के गुजरने की है लेकिन इस सड़क पर सरेआम 40-40 टन भार लेकर हईबा जैसी भारी वाहन गुजर रही हैं जिसके कारण सड़क जगह-जगह क्षतिग्रस्त होकर उखड़ गई है। जिसकी वजह से सड़क दुर्घटनाओं की संभावनाएं बढ़ती जा रही है तो वही दूसरी ओर सड़क खस्ताहाल होती जा रही है, और इन्हीं कारणों ये ग्रामीण क्षेत्रों के सड़कें बनने के कुछ महीनों बाद ही उखड़ने लगती हैं।
8 टन से अधिक भार वाले वाहनों का प्रवेश वर्जित, बावजूद सड़क में 40 टन भार लेकर गुजर रहा हाईबा वाहन….
बता दे कि प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत बनी सड़क मण्डला-डिंडौरी रोड से रमपुरी पर 8 टन से अधिक भार लेकर चलने वाले वाहनों का प्रवेश प्रतिबंधित किया गया है और बोर्ड भी सड़क के किनारे पर लगाया गया है, इसके बावजूद सड़क पर भारी वाहन प्रवेश कर रहे है स्थानीय लोगों का कहना है कि सड़क के खराब होने का प्रमुख कारण भारी वाहनों का लगातार आवाजाही है जिसका के वजह से सड़क रिपेयरिंग के चंद महीनों बाद ही जर्जर होकर अनुपयोगी हो जाती है। जिले के प्रधानमंत्री सड़कों की सूरत ओवर लोड भारी वाहनों के वजह से बिगाड़ती जा रही है और जिम्मेदार विभाग के अधिकारी मूकदर्शक बने हुए।

editor

Related Articles