डिंडौरी, रामसहाय मर्दन| जिले के बजाग जनपद पंचायत क्षेत्र के ग्राम पंचायतों में विकास कार्यों में मनमाने तरीके से अनियमितता और अनुपयोगी कार्य कराके जहां सरकारी बजट को चूना लगाया जा रहा है, वहीं पंचायत प्रतिनिधि हर काम में कमाई के चक्कर में कायदे कानून ताक पर रखकर कायदे कानून के पालन से बेपरवाह हैं। उन्हें न जांच की चिंता है, न अधिकारियों का डर है।

दरअसल जिले गाड़ासरई क्षेत्र में ठेकेदारी प्रथा जमकर हावी है। इनके लिये विभाग द्वारा तय की गई मापदंड कोई मायने रखता,इनके लिये सिर्फ निर्माण कार्यों में भ्रष्टाचार कर स्वयं को आर्थिक लाभ पहुंचाना ही मैन मकसद बन गया है। ऐसा ही मामला जनपद पंचायत बजाग के ग्राम पंचायत करौंदा का सामने आया है,जहां पर लाखो रू की लागत से स्टाॅपडेम का निर्माण कराया जा रहा है। उक्त स्टाॅपडेम का निर्माण सरपंच गंगाराम मरावी व सचिव देवंती मरावी एवं उपयंत्री के द्वारा अपने चहेते ठेकेदार के माध्यम से करा रहें है। स्टाॅपडेम का निर्माण ठेकेदार के द्वारा गुणवत्ताविहीन सामग्री का उपयोग कर पूरी तरह से घटिया कराया जा रहा है। इससे साफ प्रतीत हो रहा है कि ठेकेदार के द्वारा स्वयं को आर्थिक लाभ पहुंचाने के चक्कर में स्टाॅपडेम का निर्माण गुणवत्ताहीन सामग्री से करा रहे है।

मिट्टीयुक्त गिट्टी का कर रहे उपयोग….
बता दें कि ग्राम पंचायत करौंदा टोला के सुवासिन नाला में मनरेगा योजना के तहत लगभग 9 लाख रू. की लागत से स्टाॅपडेम का निर्माण कराया जा रहा है। उक्त स्टाॅपडेम में ठेकेदार के द्वारा मनमानी पूर्वक मिट्टीयुक्त गिट्टी और बजरी का मिश्रण कर ढ़लाई कराया जा रहा है। इसके साथ ही मसाला का सही तरीके से मिश्रण भी नहीं किया जा रहा है। जिसके कारण स्टाॅपडेम की बाहरी हिस्सों से गिट्टी निकल रही है।
जानकारी छिपाने की नियत से नहीं लगाया सूचना पटल….
वही नियमानुसार निर्माण कार्य कराने से पहले जानकारी के लिये सूचना पटल लगाना अनिवार्य है,ताकि किसी भी आमनागरिकों को निर्माण से संबंधित जानकारी मिल सके,किंतु निर्माण ऐजेंसी के द्वारा जानकारी छिपाने की नियत से सूचना पटल नहीं लगाया गया है।
सचिव देवंती मरावी ने कहा कि अभी चुनाव डयूटी में हूं,कुछ दिन से नहीं गई हूं,यदि ठेकेदार के द्वारा गुणवत्ताविहीन सामग्री से निर्माण करा रहे होंगें तो मूल्यांकन नहीं की जायेगी।

editor

Related Articles