◆ कुछ वर्षो तक जिले में सक्रिय रही लगभग 66 चिटफंड कंपनियों ने निवेशकों को लगाया करोड़ो रूपये का फ़टका

डिंडौरी (रामसहाय मर्दन) पिछले कुछ वर्षों में जिले के भोले-भाले लोगों को ज्यादा मुनाफा कमाने का सब्जबाग दिखा कर अनेको चिटफंड कंपनियों के द्वारा करोड़ो रूपये निवेश कराया गया था, किन्तु निवेशित राशि के परिपक्वता अवधि से पहले ही अधिकांश कम्पनियां कारोबार समेट कर गायब हो गए हैं, सूत्रों की मानें तो अब तक जिले में सक्रिय तमाम चिटफंड कंपनियों के द्वारा ठगे गए लगभग 19 हजार से अधिक निवेशकों ने पुलिस विभाग में शिकायत दर्ज कराया है, ठगे गए निवेशक आये दिन थाना और पुलिस अधीक्षक कार्यालय के आसपास मिल जाते हैं।

◆ सहारा इंडिया कंपनी के एजेंटों ने एसपी से लगाई गुहार

प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले में सहारा इंडिया कंपनी के द्वारा एजेंटों के माध्यम से हजारों निवेशकों से करोड़ो रूपये यह कह कर जमा कराया गया था कि तय समयावधि के पश्चात राशि में वृद्धि होगी, वही कंपनी के द्वारा निर्धारित तय समय सीमा समाप्त होने के बाद भी परिपक्वता राशि नही लौटाई जा रही हैं। निवेशकों ने सम्यक जैन के साथ उक्ताशय की शिकायत लेकर एसपी कार्यालय पहुंच कर राशि वापस लौटाए जाने की फरियाद लगाई हैं, उन्होंने बताया कि एजेंटों के द्वारा कंपनी वरिष्ठ अधिकारियों को अनेको बार अवगत कराया गया है, इसके बाद भी सुनवाई नहीं हो रही है और न ही निवेशकों के राशि लौटाई जा रही है जिससे एजेंट काफी परेशानियों का सामना कर रहे हैं। सहारा इंडिया कंपनी के 18 एजेंटों ने बताया हमारे द्वारा निवेशकों से लगभग 4 करोड़ रुपये जमा कराया गया जो कि परिपक्वता के समय सीमा पूर्ण होने के बाद लगभग 8-9 करोड़ रुपये की देनदारी होती हैं, किन्तु 2017 के बाद किसी भी निवेशक का पैसा नही लौटाया जा रहा है,जिससे निवेशको के साथ ही एजेंट भी मानसिक यंत्रणा से गुजर रहे हैं, एसपी को सौंपे शिकायत पत्र के अनुसार अधिवक्ता सम्यक जैन ने अनियमित जमा योजना प्रतिबंध अधिनियम 2019 के तहत कार्रवाई की मांग की है, पुलिस अधीक्षक संजय सिंह ने थाना प्रभारी को सघनता से जांच और विवेचना के निर्देश के साथ ही निवेशकों के राशि वापस कराने हेतु समुचित कार्यवाही किये जाने का आश्वासन दिया है।

administrator, bbp_keymaster

Related Articles