जबलपुर। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यक्रम मन की बात महीने के आखिरी रविवार को आयोजित होता है, लेकिन इस बार अमेरिका दौरे के कारण यह कार्यक्रम 18 जून को आयोजित किया गया। मन की बात के कार्यक्रम के 102वें एपिसोड को जबलपुर के सभी बूथों पर सुना गया। इस अवसर पर साँसद राकेश सिंह ने पश्चिम विधानसभा अंतर्गत नर्मदा नगर गार्डन में, नगर अध्यक्ष प्रभात साहू ने गुलौआ चैक स्थित सुषमा जैन के निवास में, विधायक अशोक रोहाणी ने केंट में कार्यकर्ताओं के साथ मन की बात सुनी।
मन की बात कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी ने गुजरात में आए चक्रवात बिपरजॉय का जिक्र करते हुए कहा कि बड़े से बड़ा लक्ष्य हो, कठिन-से-कठिन चुनौती हो, भारत के लोगों का सामूहिक बल, सामूहिक शक्ति, हर चुनौती का हल निकाल देता है। बिपरजॉय ने कच्छ में कितना कुछ तहस-नहस कर दिया, लेकिन, कच्छ के लोगों ने जिस हिम्मत और तैयारी के साथ इतने खतरनाक साइक्लोन का मुकाबला किया, वो भी उतना ही अभूतपूर्व है।
मन की बात के 102वें एपिसोड में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इमरजेंसी को याद कर कहा कि भारत लोकतंत्र की जननी है। हम 25 जून को नहीं भूल सकते। जिस दिन आपातकाल लगाया गया था। यह भारत के इतिहास का एक काला काल था। लाखों लोगों ने अपनी पूरी ताकत से आपातकाल का विरोध किया।
इस अवसर पर प्रदेश मंत्री आशीष दुबे, प्रदेश कोषाध्यक्ष अखिलेश जैन, महामंत्री पंकज दुबे, रत्नेश सोनकर, अभय सिंह ठाकुर, वेदप्रकाश, रविन्द्र पचैरी, कौशल सूरी, अतुल चैरसिया के साथ सभी कार्यकर्ताओं ने अपने अपने बूथ में मन की बात कार्यक्रम को सुना।

administrator, bbp_keymaster

Related Articles